मेम्बर बने :-

Wednesday, April 18, 2018

अमृतसर हेरिटेज वाक


विश्व विरासत दिवस 18 अप्रैल 2018 
Mahan Singh Gate Road, Amritsar, Punjab 143001



Top post on IndiBlogger, the biggest community of Indian Bloggers
आपने महसूस किया होगा कि हमारे देश की ऐतिहासिक विरासत, पुरातत्व विभाग द्वारा या निजी संस्थानों द्वारा संरक्षित होता है और करोड़ों रूपए खर्च होने के बावजूद उन स्थलों पर पर्यटकों की संख्या नगण्य होती है। इसका मुख्य कारण शहर से ऐतिहासिक स्थल तक परिवहन की समस्या और  खानपान एवं अन्य सुविधा के अभाव के साथ-साथ उस क्षेत्र को पर्यटक स्थल के रूप में विकसित न होना है। आप माने या न माने परन्तु इस सन्दर्भ में पंजाब राज्य अपवाद है। मैंने कई राज्यों का भ्रमण किया है परन्तु मैंने किसी राज्य की सरकारों को अपनी विरासत को संरक्षित करते हुए नहीं देखा। मैं किसी राजनैतिक पार्टी विशेष से संबंध नहीं रखता परन्तु मुझे यहाँ लिखने में हर्ष हो रहा है की पंजाब सरकार ने पंजाबी विरासत को विश्व के मानचित्र में ध्रुव-तारा जैसी चमक प्रदान किया है और इसका श्रेय पंजाब हेरिटेज एंड टुरिज़्म प्रमोशन बोर्ड को जाता है। आपको राज्य पर्यटन विकास निगम तो प्रत्येक राज्य में मिल जाएंगे परन्तु हेरिटेज एंड टुरिज़्म प्रमोशन बोर्ड केवल पंजाब में ही मिलेगा। पंजाब राज्य सरकार की प्रमुख विरासत इमारतों एवं स्थलों के नाम निम्न लिखित है :

1. अमृतसर  हेरिटेज वाक, 
2. विरासत-ए-खालसा 


अमृतसर  हेरिटेज वाक

इसी कड़ी में आज हम आपको एक किलोमीटर की अमृतसर  हेरिटेज वाक, जो पुराने टाउन हॉल बिल्डिंग से लेकर स्वर्ण मंदिर( हरिमंदिर साहिब) तक के सफर के बारे में बताऊँगा तो आइए सफ़र शुरू करते है :

सबसे पहले मैं कहना चाहूँगा कि 23 ऑक्टूबर 2016 के बाद अगर आपने स्वर्ण मंदिर( हरिमंदिर साहिब) का दर्शन नहीं किया है तो वहाँ जाने का प्रोग्राम बना लें क्योंकि रोम, वेनिस या फ्लोरेंस जैसे यूरोपीय स्थलों जैसा अद्भुत अनुभव कराने के लिए अमृतसर  हेरिटेज वाक, जनता के लिए 24  ऑक्टूबर 2016 को खोला गया था। आप जैसे ही पुराने टाउन हॉल बिल्डिंग को पार कर  जलियांवाला बाग की तरफ जाते हैं तो यहाँ का नज़ारा आपको मुगलकालीन एवं राजस्थानी वास्तुकला की याद दिलाती  है और साथ में पूरे 1-किमी की दूरी तक लैम्पपोस्ट, मूर्तियाँ, फव्वारे और विशाल मूर्तियों के सामने चौड़ी सड़क के बीचोबीच रखी बेंच आपको एक विशाल, खुले आर्ट-गैलरी जैसा लगता है।  अमृतसर  हेरिटेज वाक पर पैदल चलते हुए आप ऐसा मासूस करते है जैसे आप , रोम, वेनिस या फ्लोरेंस जैसे यूरोपीय स्थलों का भ्रमण कर रहें हों।
PARTITION MUSEUM, AMRITSAR, PUNJAB

Mahan Singh Gate Road, Amritsar, Punjab 143001
जब आप महां  सिंह गेट में प्रवेश करेंगे  तो  सामने 1866 ई. में ब्रिटिश द्वारा बनाए गए टाउन हॉल का फव्वारा आपका स्वागत करता है और बाएं  तरफ मिया जान मोहम्मद द्वारा निर्मित ख़ूबसूरत जामा मस्जिद दिखेगा और यही से  आप अमृतसर  हेरिटेज वाक की भव्यता आप महसूस करेंगे।

Jama Masjid Jaan Mohammad, Amritsar, Punjab, Mosque  Akali Phula Singh

टाउन हॉल के अंदर बायीं तरफ जथेदार अकाली फूला सिंह जी की विशाल मूर्ति बड़े शान से खड़ी है।
TOWN HALL, AMRITSAR

TOWN HALL, AMRITSAR

TOWN HALL, AMRITSAR

TOWN HALL, AMRITSAR
PARTITION MUSEUM, AMRITSAR, PUNJAB
टाउन हॉल के अंदर आप प्रवेश कर सीधा आगे बढ़ेंगे तो  प्रांगण  के बायीं तरफ पार्टीशन म्यूजियम  दीवारों पर पोस्टर वाला की तस्वीरें आपका ध्यान बरबस अपनी तरफ खींचती हैं। इस म्यूजियम में पार्टीशन के दर्द को आप शिद्दत से महसूस कर सकते है और ऑडियो/तस्वीरों के माध्यम से उन दिनों के गतिविधियों से रु-ब-रु हो सकते है।
PARTITION MUSEUM, AMRITSAR, PUNJAB
Madan Lal Dhingra
यहाँ से निकलने पर संसद भवन की छोटी प्रतिकृति के ऊपर डॉ. आम्बेडकर जी की मूर्ति बनी है, उसके पीछे शहीद मदन लाल ढींगरा की आदमकद मूर्ति और उसके पीछे मशहूर भरावां दा ढ़ाबा (Brother Hotel)  है।
Saragarhi Memorial Gurudwara, AMRITSAR
36वीं सिक्ख रेजीमेंट के 21 सैनिकों ने सारागढ़ी किला को बचाने के लिए पठानों से अंतिम सांस तक लड़ाई लड़ी। उन्हीं की याद में सारागढ़ी गुरुद्वारे का निर्माण हुआ। इससे आगे बढ़ने पर महाराजा रणजीत सिंह जी की विशाल प्रतिमा सड़क के केंद्र में स्थापित है।
RANJIT SINGH STATUE
धरम मार्केट के सामने पंजाबी विरसा को दर्शाती तीन विशाल मूर्तियों का समूह है।  एक पंजाब का मशहूर नृत्य  भंगड़ा , दूसरा ढ़ोल बजाता पंजाबी गबरू और तीसरा पंजाब का मशहूर नृत्य गिद्दा को दर्शाता है।
Amritsar Heritage Walk
Amritsar Heritage Walk
Amritsar Heritage Walk
Amritsar Heritage Walk

इसके बाद जलियाँवाला बाग़ के सामने एक लौ-आकार की सफ़ेद मकराना संगमरमर की 'स्मृति' नामक मूर्ति की  स्थापना की गई है।  इस स्मारक को 1919 नरसंहार में शहीदों के याद में बनाया गया है। । इस 16 फुट ऊंचे स्मारक पर कई स्वतंत्रता सेनानियों के चहरे को उकेरा गया है।
Amritsar Heritage Walk, SMRITI STATUE

Amritsar Heritage Walk, SMRITI STATUE

इस एक किलोमीटर लंबी अमृतसर  हेरिटेज वाक पर सदैव चहल-पहल बनी रहती है। गुलाबी रंग से रंगी यह अमृतसर  हेरिटेज वाक आपको जयपुर की भी याद दिलाती है।
Amritsar Heritage Walk

Amritsar Heritage Walk

Amritsar Heritage Walk

Amritsar Heritage Walk


-© राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"
Post a Comment