मेम्बर बने :-

Monday, April 30, 2018

मित्र मंडली -67



मित्रों , 
"मित्र मंडली" का  सड़सठ  वाँ अंक का पोस्ट प्रस्तुत है।इस पोस्ट में मेरे ब्लॉग के फॉलोवर्स/अनुसरणकर्ताओं के हिंदी पोस्ट की लिंक के साथ उस पोस्ट के प्रति मेरी भावाभिव्यक्ति सलंग्न है। पोस्टों का चयन साप्ताहिक आधार पर किया गया है। इसमें दिनांक 23.04.2018  से 29.04.2018 तक के हिंदी पोस्टों का संकलन है।


पुराने मित्र-मंडली पोस्टों को मैंने मित्र-मंडली पेज पर सहेज दिया है और अब से प्रकाशित मित्र-मंडली का पोस्ट 7 दिन के बाद केवल मित्र-मंडली पेज पर ही दिखेगा, जिसका लिंक नीचे दिया जा रहा है : HTTPS://RAKESHKIRACHANAY.BLOGSPOT.IN/P/BLOG-PAGE_25.HTML मित्र-मंडली के प्रकाशन का उद्देश्य मेरे मित्रों की रचना को ज्यादा से ज्यादा पाठकों तक पहुँचाना है। आप सभी पाठकगण से निवेदन है कि दिए गए लिंक के पोस्ट को पढ़ कर, टिप्पणी के माध्यम से अपने विचार जरूर लिखें। विश्वास करें ! आपके द्वारा दिए गए विचार लेखकों के लिए अनमोल होगा। 
प्रार्थी 
राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"

मित्र मंडली -67  
(नोट : मेरे कई ब्लॉग अनुसरणकर्ता  मित्र का पोस्ट जो मुझे बहुत अच्छा लगता है परन्तु मैं उसे मित्र मंडली में सम्मलित नहीं करता क्यूंकि उनकी रचना पहले से ही लोकप्रिय होती है और समयाभाव के कारण मैं उनके पोस्ट पर टिपण्णी भी नहीं कर पाता हूँ, इसके लिए मैं क्षमा प्रार्थी हूँ। ), 

इस सप्ताह के नौ रचनाकार 


Meri Jubani (मेरी जुबानी ) 

श्रमिक दिवस ------ श्रम का उपासना पर्व --- लेख


रेणु  बाला जी  

"किसी विषय पर लेख लिखना दुरूह कार्य है और मानवीय संवेदना के बगैर तो आप मजदूर दिवस जैसे विषय पर लेख लिख ही नहीं सकते। लोकतंत्र में तो हम सभी मजदूर हैं परन्तु रेणु जी ने अशिक्षित मजदूरों की व्यथा को इस  सुंदर लेख में  व्यक्त किया है जो सर्वमान्य है।  मजदूर शिक्षित हो रहें हैं परन्तु इसकी रफ़्तार बहुत धीमी है। हम सब शिक्षित लोगों का धर्म है की काम से काम एक व्यक्ति को शिक्षित करने में अपना अनुदान अवश्य दें और मजदूरों के साथ उचित व्यवहार करें। "


भेड़ाघाट (जबलपुर) नौका विहार

कविता  रावत जी  

"जबलपुर में मशहूर पर्यटक स्थल: धुआंधार प्रपात, चौसठ योगिनी मंदिर, मदन महल, बैलेंसिंग रॉक एवं अन्य अनेक स्थल हैं , अभी आप शांत-सौम्य भेड़ाघाट (जबलपुर) नौका विहार का आनंद लें।"  


नकली मूर्ती

"ज़िन्दगी के विभिन्न रंगों से सजी रहती है इनकी कहानियाँ।  ऐसी ही जीवन के एक रंग से रु-ब-रु कराती एक कहानी का आनंद आप भी लें। "

ज़िंदगी का सफ़र

रवींद्र सिंह यादव जी 

" ज़िन्दगी के सफर में अपने हालात के ख्यालों को व्यक्त करती सुन्दर रचना। "


आशा है कि मेरा प्रयास आपको अच्छा लगेगा ।  आपका सुझाव अपेक्षित है। अगला अंक 07-05-2018  को प्रकाशित होगा। धन्यवाद ! अंत में ....

Top post on IndiBlogger, the biggest community of Indian Bloggers
मेरी प्रस्तुति  :

1.MEME SERIES - 6

Friday, April 27, 2018

फोटोग्राफी : पक्षी 53 (Photography : Bird 53 )


Photography: (dated 17 03 2018 07 :30 AM )

Place : Kapurtala, Punjab, India

Yellow-footed green pigeon

The yellow-footed green pigeon, also known as yellow-legged green pigeon, is a common species of green pigeon found in the Indian subcontinent. It is the state bird of Maharashtra. 
  
Scientific name:  Treron phoenicoptera
Photographer   :  Rakesh kumar srivastava

हरियाल कबूतर, जिसका पैर पीले रंग का और पंख हरे रंग का होता है, भारतीय उपमहाद्वीप में पाए जाने वाले हरे कबूतर की एक आम प्रजाति है। यह महाराष्ट्र का राज्य पक्षी है। मराठी में इसे हरियाल कहा जाता है।

वैज्ञानिक नाम  :ट्रेरोन फीनिकोटेरा
फोटोग्राफर    :राकेश कुमार श्रीवास्तव

अन्य भाषा में नाम:-


Assamese: হালধীয়া ঠেঙৰ হাইঠা; Bengali:হলদে-পা হরিয়াল; Gujarati: હરીયલ; Hindi: हरियाल; Malayalam: ഹരിയാൾ; Marathi: हरोळी, हिरवा होला; Nepali: हलेसो; Punjabi: ਹਰੀਅਲ; Tamil: பச்சைப்புறா



Yellow-footed green pigeon

Yellow-footed green pigeon

Yellow-footed green pigeon

Yellow-footed green pigeon

Yellow-footed green pigeon

Yellow-footed green pigeon

Yellow-footed green pigeon

Yellow-footed green pigeon


-© राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"






Wednesday, April 25, 2018

MEME SERIES - 6


Biweekly Edition ( पाक्षिक संस्करण ) 25'April to 08'May

मीम (MEME)

"यह एक सैद्धांतिक इकाई है जो सांस्कृतिक विचारों, प्रतीकों या मान्यताओं आदि को लेखन, भाषण, रिवाजों या अन्य किसी अनुकरण योग्य विधा के माध्यम से एक मस्तिष्क से दूसरे मस्तिष्क में पहँचाने का काम करती है। "मीम" शब्द प्राचीन यूनानी शब्द μίμημα; मीमेमा का संक्षिप्त रूप है जिसका अर्थ हिन्दी में नकल करना या नकल उतारना होता है। इस शब्द को गढ़ने और पहली बार प्रयोग करने का श्रेय ब्रिटिश विकासवादी जीवविज्ञानी रिचर्ड डॉकिंस को जाता है जिन्होने 1976 में अपनी पुस्तक "द सेल्फिश जीन" (यह स्वार्थी जीन) में इसका प्रयोग किया था। इस शब्द को जीन शब्द को आधार बना कर गढ़ा गया था और इस शब्द को एक अवधारणा के रूप में प्रयोग कर उन्होने विचारों और सांस्कृतिक घटनाओं के प्रसार को विकासवादी सिद्धांतों के जरिए समझाने की कोशिश की थी। पुस्तक में मीम के उदाहरण के रूप में गीत, वाक्यांश, फैशन और मेहराब निर्माण की प्रौद्योगिकी इत्यादि शामिल है।"- विकिपीडिया से साभार.

MEME SERIES - 6

By looking at this picture you might be having certain reaction in your mind, through this express your reaction as the title or the  caption. The selected title or caption of few people will be published in the next MEME SERIES POST.

इस तस्वीर को देख कर आपके मन में अवश्य ही किसी भी प्रकार के प्रतिक्रिया उत्पन्न हुई होगी, तो उसी को शीर्षक(TITLE) या अनुशीर्षक(CAPTION)के रूप में व्यक्त करें। चुने हुए शीर्षक(TITLE) या अनुशीर्षक(CAPTION)को अगले MEME SERIES POST में प्रकाशित की जाएगी।

Top post on IndiBlogger, the biggest community of Indian Bloggers***********************************************************************************************************

The next edition will be published on May 9, 2018. If you have similar type of picture on your blog, leave a link of your post in my comments section. I will link your posts on my blog in the next edition. Thank you very much dear friends for all your valuable captions for MEME SERIES-5 . Your participation and thoughts are deeply appreciated by me. Some of the best captions are listed below.

अगला संस्करण 9 मई , 2018 को प्रकाशित किया जाएगा। यदि आपके ब्लॉग पर इस तरह की कोई तस्वीर है, तो अपने पोस्ट का लिंक मेरी टिप्पणी अनुभाग में लिख दें। मैं अगले संस्करण में अपने ब्लॉग पर आपका पोस्ट लिंक कर दूंगा। मेरे प्रिय मित्रों, आपके सभी बहुमूल्य शीर्षक(TITLE) या अनुशीर्षक(CAPTION) के लिए धन्यवाद। MEME SERIES-5 के पोस्ट पर आपकी भागीदारी और विचारों ने मुझे बहुत प्रभावित किया, उनमें से कुछ बेहतरीन कैप्शन नीचे उल्लेखित हैं। 

Top post on IndiBlogger, the biggest community of Indian Bloggers

MEME SERIES-5 के बेहतरीन कैप्शन


छल छल निश्छल।---------सुशील कुमार जोशी (SKJoshi)



1 मन की धरा से अंकुरित खुशी । 
2 एक तरणताल था घर हमारे। 
3 खिलते अरविंद ।


4 यादों का बचपन। ----------------Kusum Kothari

1 एक रहेन ईर, एक रहेन बीर, एक रहेन फत्ते और एक रहीन हम...
गर्मी अच्छी है... Sudha's insights 




हर हर गंगे !...Harsh Wardhan Jog




ए गर्मी आज़मा ले मुझे ...Digamber Naswa 




  निर्मल नीर निश्छल मृगछौने,
  बाल सखा सम्मुख सब बौने!------------ Vishwa Mohan



कितने प्यारे ये पल अलबेले -
इस जैसी कहीं कोई बात कहाँ ? 
ये मासूम से झिलमिल चेहरे -
है ऐसी खुशियों की बरसात कहाँ -?
आ जी ले छटपट ये लम्हे -
समय भागता जाता है -
बिछड़े तो जाने कब मिलेगे --
बचपन कब लौट के आता है -?
जाने कितना ये साथ रहेगा -
कब ले जाये हालात कहाँ ?-----------------Renu

© राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"


Friday, April 20, 2018

फोटोग्राफी : पक्षी 52 (Photography : Bird 52 )


Photography: (dated 17 02 2018 01 :45 PM )

Place : Kapurtala, Punjab, India

BLACK KITE

The black kite is a medium-sized bird of prey in the family Accipitridae, which also includes many other diurnal raptors. It is thought to be the world's most abundant species of Accipitridae, although some populations have experienced dramatic declines or fluctuations. Current global population estimates run up to 6 million individuals. Unlike others of the group, black kites are opportunistic hunters and are more likely to scavenge. They spend a lot of time soaring and gliding in thermals in search of food. Their angled wing and distinctive forked tail make them easy to identify. They are also vociferous with a shrill whinnying call. This kite is widely distributed through the temperate and tropical parts of Eurasia and parts of Australasia and Oceania, with the temperate region populations tending to be migratory. Several subspecies are recognized and formerly had their own English names. The European populations are small, but the South Asian population is very large.
   
Scientific name:  Milvus migrans
Photographer   :  Rakesh kumar srivastava

चील एक मध्यम-आकार वाले एसिप्रिट्रिडे परिवार का एक शिकारी पक्षी है। इनकी मौजूदा विश्व में जनसंख्या अनुमानतः 6 लाख तक है। अपनी विशिष्ट कोणीय पंख एवं काली पूंछ से इन्हें आसानी से पहचानना जा सकता है। 

वैज्ञानिक नाम : मिल्वस माइग्र्रंस
फोटोग्राफर    :राकेश कुमार श्रीवास्तव

अन्य भाषा में नाम:-
Assamese: চিলনী; Bengali: ভুবন চিল, বাদামি চিল, গোদা চিল, ডোম চিল; French: Milan noir; Gujarati: સમડી, ચીલ, કાશ્મીરી ચીલ, શિયાળુ સમડી, દેશી સમડી; Hindi: चील; Kannada: ಹದ್ದು, ಗಿಡುಗ; Malayalam: ചക്കിപ്പരുന്ത്; Marathi: घार, घोण; Nepali: कालो चील; Oriya: ଚିଲ; Tamil: கள்ளப் பருந்து




-© राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"






Wednesday, April 18, 2018

अमृतसर हेरिटेज वाक


विश्व विरासत दिवस 18 अप्रैल 2018 
Mahan Singh Gate Road, Amritsar, Punjab 143001



Top post on IndiBlogger, the biggest community of Indian Bloggers
आपने महसूस किया होगा कि हमारे देश की ऐतिहासिक विरासत, पुरातत्व विभाग द्वारा या निजी संस्थानों द्वारा संरक्षित होता है और करोड़ों रूपए खर्च होने के बावजूद उन स्थलों पर पर्यटकों की संख्या नगण्य होती है। इसका मुख्य कारण शहर से ऐतिहासिक स्थल तक परिवहन की समस्या और  खानपान एवं अन्य सुविधा के अभाव के साथ-साथ उस क्षेत्र को पर्यटक स्थल के रूप में विकसित न होना है। आप माने या न माने परन्तु इस सन्दर्भ में पंजाब राज्य अपवाद है। मैंने कई राज्यों का भ्रमण किया है परन्तु मैंने किसी राज्य की सरकारों को अपनी विरासत को संरक्षित करते हुए नहीं देखा। मैं किसी राजनैतिक पार्टी विशेष से संबंध नहीं रखता परन्तु मुझे यहाँ लिखने में हर्ष हो रहा है की पंजाब सरकार ने पंजाबी विरासत को विश्व के मानचित्र में ध्रुव-तारा जैसी चमक प्रदान किया है और इसका श्रेय पंजाब हेरिटेज एंड टुरिज़्म प्रमोशन बोर्ड को जाता है। आपको राज्य पर्यटन विकास निगम तो प्रत्येक राज्य में मिल जाएंगे परन्तु हेरिटेज एंड टुरिज़्म प्रमोशन बोर्ड केवल पंजाब में ही मिलेगा। पंजाब राज्य सरकार की प्रमुख विरासत इमारतों एवं स्थलों के नाम निम्न लिखित है :

1. अमृतसर  हेरिटेज वाक, 
2. विरासत-ए-खालसा 


अमृतसर  हेरिटेज वाक

इसी कड़ी में आज हम आपको एक किलोमीटर की अमृतसर  हेरिटेज वाक, जो पुराने टाउन हॉल बिल्डिंग से लेकर स्वर्ण मंदिर( हरिमंदिर साहिब) तक के सफर के बारे में बताऊँगा तो आइए सफ़र शुरू करते है :

सबसे पहले मैं कहना चाहूँगा कि 23 ऑक्टूबर 2016 के बाद अगर आपने स्वर्ण मंदिर( हरिमंदिर साहिब) का दर्शन नहीं किया है तो वहाँ जाने का प्रोग्राम बना लें क्योंकि रोम, वेनिस या फ्लोरेंस जैसे यूरोपीय स्थलों जैसा अद्भुत अनुभव कराने के लिए अमृतसर  हेरिटेज वाक, जनता के लिए 24  ऑक्टूबर 2016 को खोला गया था। आप जैसे ही पुराने टाउन हॉल बिल्डिंग को पार कर  जलियांवाला बाग की तरफ जाते हैं तो यहाँ का नज़ारा आपको मुगलकालीन एवं राजस्थानी वास्तुकला की याद दिलाती  है और साथ में पूरे 1-किमी की दूरी तक लैम्पपोस्ट, मूर्तियाँ, फव्वारे और विशाल मूर्तियों के सामने चौड़ी सड़क के बीचोबीच रखी बेंच आपको एक विशाल, खुले आर्ट-गैलरी जैसा लगता है।  अमृतसर  हेरिटेज वाक पर पैदल चलते हुए आप ऐसा मासूस करते है जैसे आप , रोम, वेनिस या फ्लोरेंस जैसे यूरोपीय स्थलों का भ्रमण कर रहें हों।
PARTITION MUSEUM, AMRITSAR, PUNJAB

Mahan Singh Gate Road, Amritsar, Punjab 143001
जब आप महां  सिंह गेट में प्रवेश करेंगे  तो  सामने 1866 ई. में ब्रिटिश द्वारा बनाए गए टाउन हॉल का फव्वारा आपका स्वागत करता है और बाएं  तरफ मिया जान मोहम्मद द्वारा निर्मित ख़ूबसूरत जामा मस्जिद दिखेगा और यही से  आप अमृतसर  हेरिटेज वाक की भव्यता आप महसूस करेंगे।

Jama Masjid Jaan Mohammad, Amritsar, Punjab, Mosque  Akali Phula Singh

टाउन हॉल के अंदर बायीं तरफ जथेदार अकाली फूला सिंह जी की विशाल मूर्ति बड़े शान से खड़ी है।
TOWN HALL, AMRITSAR

TOWN HALL, AMRITSAR

TOWN HALL, AMRITSAR

TOWN HALL, AMRITSAR
PARTITION MUSEUM, AMRITSAR, PUNJAB
टाउन हॉल के अंदर आप प्रवेश कर सीधा आगे बढ़ेंगे तो  प्रांगण  के बायीं तरफ पार्टीशन म्यूजियम  दीवारों पर पोस्टर वाला की तस्वीरें आपका ध्यान बरबस अपनी तरफ खींचती हैं। इस म्यूजियम में पार्टीशन के दर्द को आप शिद्दत से महसूस कर सकते है और ऑडियो/तस्वीरों के माध्यम से उन दिनों के गतिविधियों से रु-ब-रु हो सकते है।
PARTITION MUSEUM, AMRITSAR, PUNJAB
Madan Lal Dhingra
यहाँ से निकलने पर संसद भवन की छोटी प्रतिकृति के ऊपर डॉ. आम्बेडकर जी की मूर्ति बनी है, उसके पीछे शहीद मदन लाल ढींगरा की आदमकद मूर्ति और उसके पीछे मशहूर भरावां दा ढ़ाबा (Brother Hotel)  है।
Saragarhi Memorial Gurudwara, AMRITSAR
36वीं सिक्ख रेजीमेंट के 21 सैनिकों ने सारागढ़ी किला को बचाने के लिए पठानों से अंतिम सांस तक लड़ाई लड़ी। उन्हीं की याद में सारागढ़ी गुरुद्वारे का निर्माण हुआ। इससे आगे बढ़ने पर महाराजा रणजीत सिंह जी की विशाल प्रतिमा सड़क के केंद्र में स्थापित है।
RANJIT SINGH STATUE
धरम मार्केट के सामने पंजाबी विरसा को दर्शाती तीन विशाल मूर्तियों का समूह है।  एक पंजाब का मशहूर नृत्य  भंगड़ा , दूसरा ढ़ोल बजाता पंजाबी गबरू और तीसरा पंजाब का मशहूर नृत्य गिद्दा को दर्शाता है।
Amritsar Heritage Walk
Amritsar Heritage Walk
Amritsar Heritage Walk
Amritsar Heritage Walk

इसके बाद जलियाँवाला बाग़ के सामने एक लौ-आकार की सफ़ेद मकराना संगमरमर की 'स्मृति' नामक मूर्ति की  स्थापना की गई है।  इस स्मारक को 1919 नरसंहार में शहीदों के याद में बनाया गया है। । इस 16 फुट ऊंचे स्मारक पर कई स्वतंत्रता सेनानियों के चहरे को उकेरा गया है।
Amritsar Heritage Walk, SMRITI STATUE

Amritsar Heritage Walk, SMRITI STATUE

इस एक किलोमीटर लंबी अमृतसर  हेरिटेज वाक पर सदैव चहल-पहल बनी रहती है। गुलाबी रंग से रंगी यह अमृतसर  हेरिटेज वाक आपको जयपुर की भी याद दिलाती है।
Amritsar Heritage Walk

Amritsar Heritage Walk

Amritsar Heritage Walk

Amritsar Heritage Walk


-© राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"