मेम्बर बने :-

Friday, February 23, 2018

आह!


आह! 

जीवन जीने के हैं  रंग निराले,
इसे चाहिए इक देह, दो निवाले। 

बचपन में तो माँ से ये सुख पाया,

अब रोटी ने ही मुझको  तड़पाया,
मेरी उम्र गुजरी इसी चक्कर में,
मिली रोटियां पर शरीर गवांया।

जीवन जीने के हैं  रंग निराले,

इसे चाहिए इक देह, दो निवाले।

उदर की ज्वाला कब  शांत होती  है,
इनके आगे देह कहाँ दिखती है ,
सभी की शांत हो उदरों की ज्वाला
इसकी लिए आम जनता पिसती  है।

जीवन जीने के हैं  रंग निराले,

इसे चाहिए इक देह, दो निवाले।

मेरी देह का जब मोल लगता है ,
तब भी कहाँ, सब का पेट भरता है,
करनी पड़ती है दिन में मजदूरी
तब जाकर सभी को चैन मिलता है।

जीवन जीने के हैं  रंग निराले,

इसे चाहिए इक देह, दो निवाले।

जो भी हैं हमसब के भाग्य-विधाता,
उनको हम पर तरस नहीं है आता,
हम मजदूरों का ही शोषण कर के
दानी बनने का नाटक है करता।

जीवन जीने के हैं  रंग निराले,

इसे चाहिए इक देह, दो निवाले।

घर, शिक्षा औ' स्वास्थ्य यहाँ सपना है,
हम को तो बस रोटी का रोना है,
सेठ का कुत्ता भी जीता शान से
नरक से बदहाल  जीवन अपना है।

जीवन जीने के हैं  रंग निराले,

इसे चाहिए इक देह, दो निवाले।

सदियों से यहाँ दो वर्ग रहते हैं ,
शोषक और शोषित इन्हें कहते हैं,
शोषक न माने किसी धर्म-जात को
पैसे को ये बस ख़ुदा मानते हैं।

जीवन जीने के हैं  रंग निराले,

इसे चाहिए इक देह, दो निवाले।


-© राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"


Wednesday, February 21, 2018

MEME SERIES - 1


Photography: (dated 10 09 2017 10:30 AM )

Place : ROSE GARDEN, CHANDIGARH, India

MEME SERIES  - 1
  
I captured a person in my camera with a click who himself captures people on his pages with a brush. 

By looking at this picture you might be having certain reaction in your mind, through this express your reaction as the title or the  caption. The selected title or caption of few people will be published in the next MEME SERIES POST.

मैंने अपने कैमरे में एक ऐसे व्यक्ति को क़ैद कर लिया, जो खुद कोरे कागज पर ब्रश के द्वारा लोगों को क़ैद करता है।

इस तस्वीर को देख कर आपके मन में अवश्य ही किसी भी प्रकार के प्रतिक्रिया उत्पन्न हुई होगी, तो उसी को शीर्षक(TITLE) या अनुशीर्षक(CAPTION)के रूप में व्यक्त करें। चुने हुए शीर्षक(TITLE) या अनुशीर्षक(CAPTION)को अगले MEME SERIES POST में प्रकाशित की जाएगी। 
-© राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"






Monday, February 19, 2018

मित्र मंडली -57





मित्रों , 
"मित्र मंडली" का  सत्तावन वाँ अंक का पोस्ट प्रस्तुत है।इस पोस्ट में मेरे ब्लॉग के फॉलोवर्स/अनुसरणकर्ताओं के हिंदी पोस्ट की लिंक के साथ उस पोस्ट के प्रति मेरी भावाभिव्यक्ति सलंग्न है। पोस्टों का चयन साप्ताहिक आधार पर किया गया है। इसमें दिनांक 12.02.2018  से 18.02.2018 तक के हिंदी पोस्टों का संकलन है।


पुराने मित्र-मंडली पोस्टों को मैंने मित्र-मंडली पेज पर सहेज दिया है और अब से प्रकाशित मित्र-मंडली का पोस्ट 7 दिन के बाद केवल मित्र-मंडली पेज पर ही दिखेगा, जिसका लिंक नीचे दिया जा रहा है : HTTPS://RAKESHKIRACHANAY.BLOGSPOT.IN/P/BLOG-PAGE_25.HTML मित्र-मंडली के प्रकाशन का उद्देश्य मेरे मित्रों की रचना को ज्यादा से ज्यादा पाठकों तक पहुँचाना है। आप सभी पाठकगण से निवेदन है कि दिए गए लिंक के पोस्ट को पढ़ कर, टिप्पणी के माध्यम से अपने विचार जरूर लिखें। विश्वास करें ! आपके द्वारा दिए गए विचार लेखकों के लिए अनमोल होगा। 
प्रार्थी 
राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"

मित्र मंडली -57

इस सप्ताह के सात  रचनाकार 


"अजनबी"

मीना भारद्वाज  जी 

"गाँव में अभी भी संयुक्त परिवार रहते है और यहाँ के रहने वाले - सभी निवासी,जीव-जंतु एवं प्रकृति से आत्मिक लगाव रखते हैं, वहीं सब सुख सुविधा होते हुए भी शहर सदैव बेगाना सा लगता है। सच्ची अनुभूति की सुन्दर प्रस्तुति।  "

आलोक बन बिखरना

मेरे दीप तुम्हें जलना होगा

सुधा देवरानी जी 

"हौसला बनाए रखने की सन्देश देती  सुन्दर अर्थ  पूर्ण कविता ।  "

लंच के बाद आना

हर्ष वर्धन जोग जी 

आशा है कि मेरा प्रयास आपको अच्छा लगेगा ।  आपका सुझाव अपेक्षित है। अगला अंक 26-02-2018  को प्रकाशित होगा। धन्यवाद ! अंत में ....

Top post on IndiBlogger, the biggest community of Indian Bloggers





Friday, February 16, 2018

किला रायपुर (KILA RAIPUR)


82वाँ किला रायपुर खेल मेला 2018

यात्रा पूर्व :
आप माने या ना माने परन्तु सूचना क्रान्ति का लाभ पर्यटक सबसे ज्यादा उठाते हैं. किसी भी अज्ञात स्थान पर जाना हो तो किसी से कुछ भी पता करने की जरूरत नहीं पड़ती, बस गूगल मैप खोला और चल पड़े. पर्यटक को किसी स्थल का भ्रमण करना है तो जाने से पहले ही सम्पूर्ण जानकारी इंटरनेट से हासिल कर पूर्व-नियोजित कार्यक्रम के अनुसार ही किफायत और कम समय में यात्रा संपन्न कर लेते हैं . इस क्रांति का सबसे बड़ा लाभ यह है कि किसी भी पर्यटन स्थल की जितनी जानकारी एक पर्यटक को होती है उतनी जानकारी वहाँ के स्थानीय लोगों को भी नहीं रहती . खैर ! मैंने तो इस बात को इस लिए छेड़ा है क्योंकि मुझे आपको 82 वाँ किला रायपुर खेल मेला 2018 के बारे में विस्तृत जानकारी देनी है. मैं, किला रायपुर, लुधियाना से करीब 82 कि.मी. की दूरी पर विगत 25 वर्षों से रह रहा हूँ और इस किला रायपुर खेल मेला की जानकारी अक्सर इस मेले के समाप्ति पर स्थानीय अखबारों के माध्यम से मिलती थी. किला रायपुर खेल मेला की अखबारों में रिपोर्टिंग पढ़ कर, मैं रोमांचित हो जाता था और अगले साल मैं इस मेले को देखने जरूर जाऊँगा, इस प्रण के साथ अगले साल का इंतज़ार करता. परन्तु जानकारी के अभाव में और अन्य कारणों से वहाँ के खेल का आनंद अभी तक  नहीं ले पाया था . यह संयोग मात्र है कि जनवरी’2018 में मैंने, अपने ब्लॉग मित्र के पोस्ट पर किला रायपुर के खेल मेला, जिसे रूरल ओलंपिक भी कहा जाता है, के बारे में पढ़ा. उत्सुकता वश मैंने इसके बारे में इंटरनेट पर तलाश शुरू की तो कोई ख़ास जानकारी हासिल नहीं हो पा रही थी और जब मैंने रूरल ओलंपिक लुधियाना सर्च किया तब जाकर किला रायपुर खेल मेले का आधिकारिक वेब-साईट (www.ruralolympic.net) मिली. इस वेब-साईट के माध्यम से पता चला कि 2, 3 एवं 4 फरवरी 2018 को किला रायपुर में खेल मेला आयोजित किया जाएगा. पूरा विवरण पढ़ने के बाद मैंने निर्णय लिया कि 4 फरवरी 2018 को  किला रायपुर जाऊँगा क्योंकि उस दिन रविवार की छुट्टी है और इसी दिन लगभग सभी खेलों का फाइनल मैच खेला जाना है. मैंने अपनी मंशा अपने भाई सुनील को बताई, तो वह भी साथ चलने को सहर्ष तैयार हो गया.

यात्रा प्रारंभ:
हम लोग तय कार्यक्रम के अनुसार 4 फरवरी 2018 को सुबह 10 बजे बुलेट मोटर-साईकल पर सवार होकर किला रायपुर के लिए रवाना हुए. 101 कि.मी. की यात्रा कर करीब दोपहर 12 बजे हम लोग किला रायपुर स्टेडियम पहुँचे. यहाँ इस बात का जिक्र करना जरूरी है कि इस खेल को स्पोर्ट्स ऑथोरिटी ऑफ़ इंडिया, पर्यटन विभाग - भारत सरकार, पंजाब खेल विभाग पंजाब सरकार, पर्यटन विभाग - पंजाब सरकार एवं लुधियाना प्रशासन से मान्यता प्राप्त और एम आर एफ टायर जैसी कंपनी के प्रायोजक होने के बावजूद लुधियाना से लेकर किला रायपुर तक, इस खेल से सम्बंधित एक भी विज्ञापन नज़र नहीं आया. 

82 वाँ किला रायपुर खेल मेला 2018 की रिपोर्टिंग:

खैर! जब हम वहाँ पहुँचे, तो वहाँ का प्राकृतिक नज़ारा अद्भुत था. साफ नीले आकाश में सफ़ेद बादल ऐसे फैले हुए थे मानो कोई चितेरा अपनी कूची को सफ़ेद रंग में डुबो कर नीले कैनवस पर चित्र बनाने के लिए कहीं-कहीं हल्के स्ट्रोक्स का इस्तेमाल किया हो. चालीस हज़ार दर्शक दीर्घा वाले स्टेडियम में रंग-बिरंगी पोशाकों में एक तरफ दर्शक बैठे थे. जाड़े की गुनगुनी धूप के बीच भगवंत मेमोरियल गोल्ड कप हॉकी टूर्नामेंट का फाइनल मैच चल रहा था. मैंने सबसे पहले पूरे स्टेडियम का एक चक्कर लगा कर वहाँ के गतिविधियों का जायजा लिया. लगभग पचास की संख्या में मीडिया के पत्रकार, प्रेस-रिपोर्टर, फोटोग्राफर एवं विडियोग्राफर मैदान के अंदर मौजूद थे. हाथी एवं ऊँट दौड़ का आयोजन होना था इसलिए हाथी एवं ऊँट सज-धज कर अलग-अलग मैदान के दोनों छोर पर आमने-सामने खड़े थे. हॉकी मैच के बीच-बीच में 100, 200, 400 एवं 800 मी. की रेस चल रही थी और उद्घोषक विजेताओं के नाम के साथ-साथ उत्साहित दर्शकों द्वारा खिलाड़ियों के लिए अलग से नगद पुरस्कार की घोषणा भी कर रहे थे. हॉकी मैच टाई होने के बाद, बहुत ही रोमांचकारी ढंग से, पेनाल्टी शूट-आउट के आधार पर विजेता टीम का नाम घोषित किया गया. इसके बाद तो मानो दर्शकों का सैलाब सा आ गया. एक साथ कई इवेंट शुरू हो गए. कबड्डी, एथेलेटिक्स, ट्रैक्टर लोडिंग अन-लोडिंग, साइकिलिंग, जिम्नास्टिक, दिव्यांगों द्वारा हैरतअंगेज कारनामों वाले करतब एवं अन्य प्रतियोगिताएँ संपन्न हुईं. स्टेडियम लगभग खचाखच भरा हुआ था. इसी बीच हाथियों एवं ऊँटों की दौड़ शुरू हुई जिसे मैंने अपनी जीवन में पहली बार देखा, इस अनुभव को मैं अपने शब्दों में बयाँ नहीं कर सकता. एक सौ बावन पतंगों को एक डोर में उड़ते हुए देख कर सभी अचंभित थे. वहाँ पर देश-विदेश से आए फोटोग्राफर भी उड़ती हुई पतंगों की तस्वीर लेने का लोभ संवरण नहीं कर पा रहे थे. सभी तरह की प्रतियोगिताएँ समाप्त हो जाने के बाद, बुलेट मोटर-साईकल पर महिला, पुरुष एवं एक महिला-पुरुष जोड़ी ने साहसिक करतब दिखा कर सभी दर्शकों को दाँतों तले उंगलियाँ दबाने पर मजबूर कर रहे थे, तभी एक पैरा-ग्लाइडर नीले आकाश में उड़ता दिखा. सभी दर्शकों की नज़रें आसमान में उड़ते उस पैरा-ग्लाइडर पर जम गई. पैरा-ग्लाइडर उड़ाने वाला भी पैरा-ग्लाइडर को पतंगों की डोर के कभी नीचे से तो कभी ऊपर से उड़ा कर सभी दर्शकों के होश उड़ा रहा था.

यात्रा समाप्ति पूर्व:

इन सब के बीच मैंने वहाँ के मेले का भी अवलोकन किया. सैकड़ों की संख्या में कार एवं मोटर-साईकल अलग-अलग स्टैंड पर व्यवस्थित ढंग से लगे हुए थे. तरह-तरह के पकवान, पेय पदार्थ, खिलौने एवं अन्य स्टॉल सजे हुए थे. स्टेडियम एवं उसके आस-पास की सफाई देख कर मुझे नहीं लगा कि मैं किसी गाँव के खेल मेले में आया हुआ हूँ. शाम को रंगारंग कार्यक्रम होने वाला था,  परन्तु मुझे वापस कपूरथला जाना था. अब मुझे 82वाँ किला रायपुर खेल मेला 2018 को अलविदा कहना पड़ा और दिलों में वहाँ की ढेर सारी यादों के साथ अपने गंतव्य स्थान के लिए इस उम्मीद से प्रस्थान किया कि अगले साल फिर आयेंगे.

किला रायपुर खेल मेला का संक्षिप्त परिचय:

लुधियाना से करीब 19 कि.मी. की दूरी पर है किला रायपुर, यहाँ के एक समाज सेवक इंदर सिंह ग्रेवाल ने वार्षिक मनोरंजक बैठक की कल्पना की, जिसमें किला रायपुर के आसपास के क्षेत्रों के किसानों के शारीरिक सहनशक्ति का परीक्षण किया जाए। इस विचार ने 1933 में किला रायपुर खेल मेले की नींव रखी और आज इसे पूरे विश्व में निर्विवाद रूप से "ग्रामीण ओलंपिक" या "मिनी ओलंपिक" के रूप में जाना जाता है

किला रायपुर खेल मेला आमतौर पर फरवरी के पहले सप्ताह के अंत में ग्रेवाल स्पोर्ट्स एसोसिएशन द्वारा आयोजित किया जाता है। इस खेल मेले का एकमात्र उद्देश्य "स्वस्थ शरीर में स्वस्थ दिमाग", जो ओलंपिक खेलों के लैटिन में सूत्रवाक्य सिटियस, एल्टियस, फोर्टियस जिसका हिंदी अनुवाद "तेज़, उच्च, मजबूत" से प्रेरित है।

बैल-गाड़ी एवं घोड़ा-खच्चर की दौड़ों पर सन् 2014 से रोक लगी हुई है, परन्तु इस बार विशेष देख-रेख में कुत्तों की दौड़ का भी आयोजन किया गया।


   












Top post on IndiBlogger, the biggest community of Indian Bloggers
          


-© राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"

Wednesday, February 14, 2018

फोटोग्राफी : पक्षी 48 (Photography : Bird 48 )



Photography: (dated 20 01 2018 12:00 PM )

Place : Kapurthala, Punjab, India

Spotted owlet

The spotted owlet is a small owl which breeds in tropical Asia from mainland India to Southeast Asia. A common resident of open habitats including farmland and human habitation, it has adapted to living in cities. They roost in small groups in the hollows of trees or in cavities in rocks or buildings. 

Scientific name:  Athene brama


Photographer   :  Rakesh kumar srivastava


खकूसट, खूसटिया या छुघड एक छोटा उल्लू है जो उष्णकटिबंधीय एशिया, मुख्यतः भारत से दक्षिण पूर्व एशिया तक,  में पाया जाता है। इसे खेत, खुली जगहों एवं शहरों में आम पाया जाने वाला पक्षी है। ये चट्टानों या इमारतों में, पेड़ों के छिलकों या गुहा में रहते हैं।

वैज्ञानिक नाम: एथेन ब्रेमा

फोटोग्राफर: राकेश कुमार श्रीवास्तव

अन्य भाषा में नाम:-

Assamese: কুৰুলী ফেঁচা; Bengali: খুঁড়ুলে পেঁচা; Gujarati: ચિબરી; Hindi: खकूसट, खूसटिया, छुघड; Kannada: ಹಾಲಕ್ಕಿ; Malayalam: പുള്ളി നത്ത്; Marathi: ठिपकेदार पिंगळा, घोगड; Nepali: कोचलगाँडे लाटोकोसेरो; Punjabi: ਚੁਗਲ; Sanskrit: कृकालिका, निशाटन, पिंगचक्षू, खर्गला, उलूक; Tamil: புள்ளி ஆந்தை


















-© राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"





Monday, February 12, 2018

मित्र मंडली -56





मित्रों , 
"मित्र मंडली" का  छप्पन वाँ अंक का पोस्ट प्रस्तुत है।इस पोस्ट में मेरे ब्लॉग के फॉलोवर्स/अनुसरणकर्ताओं के हिंदी पोस्ट की लिंक के साथ उस पोस्ट के प्रति मेरी भावाभिव्यक्ति सलंग्न है। पोस्टों का चयन साप्ताहिक आधार पर किया गया है। इसमें दिनांक 05.02.2018  से 11.02.2018 तक के हिंदी पोस्टों का संकलन है।


पुराने मित्र-मंडली पोस्टों को मैंने मित्र-मंडली पेज पर सहेज दिया है और अब से प्रकाशित मित्र-मंडली का पोस्ट 7 दिन के बाद केवल मित्र-मंडली पेज पर ही दिखेगा, जिसका लिंक नीचे दिया जा रहा है : HTTPS://RAKESHKIRACHANAY.BLOGSPOT.IN/P/BLOG-PAGE_25.HTML मित्र-मंडली के प्रकाशन का उद्देश्य मेरे मित्रों की रचना को ज्यादा से ज्यादा पाठकों तक पहुँचाना है। आप सभी पाठकगण से निवेदन है कि दिए गए लिंक के पोस्ट को पढ़ कर, टिप्पणी के माध्यम से अपने विचार जरूर लिखें। विश्वास करें ! आपके द्वारा दिए गए विचार लेखकों के लिए अनमोल होगा। 
प्रार्थी 
राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"

मित्र मंडली -56

इस सप्ताह के सात  रचनाकार 


"ताँका"

मीना भारद्वाज  जी 

"जापानी ताँका शैली में रचित सुन्दर कविता और आशा है कि जापानी चोका शैली में लिखी आपकी कविता पाठकों को पढ़ने को मिलेगी। "

एक और सियासत

"कासगंज की मार्मिक घटना पर तथाकथित बुद्धिजीवी वर्ग और मीडिया में कोई खास सुगबुगाहट नहीं हुई, हम किसी के महिमा मंडित करने के पक्ष में नहीं हैं परन्तु किसी हत्या हुई उस हत्यारे के प्रति संवेदना अच्छी नहीं। हमारे देश में भीड़ का हिस्सा बन कर किसी की भी हत्या कर हत्यारा स्वच्छंदता से आज़ाद घूमता है, इसके हज़ारों मिसाल है। आखिर यह सिलसिला कब ख़त्म होगा।   सुन्दर भावपूर्ण कृति। "

हम रहें या न रहें पदचिन्ह रहने चाहिए 

जिया जो दूसरों के सपनों पर

रवींद्र सिंह यादव जी 


कुछ तो खुरच कागज को खून ना सही खुरचन ही सही भिगोने के लिये लाल रंग के पानी की कहानी की

सुशील कुमार जोशी  जी 

दिल का वादा।

पंकज भूषण पाठक जी

आशा है कि मेरा प्रयास आपको अच्छा लगेगा ।  आपका सुझाव अपेक्षित है। अगला अंक 19-02-2018  को प्रकाशित होगा। धन्यवाद ! अंत में ....
मेरी दो प्रस्तुति  : 


Top post on IndiBlogger, the biggest community of Indian Bloggers



2 .जंग-ऐ-आज़ादी यादगार भवन

http://rakeshkirachanay.blogspot.com/2018/02/blog-post.html