मेम्बर बने :-

Tuesday, October 16, 2012

तन्हां

तन्हां

तन्हां तन्हां रह गया हूँ मैं।
आकर तन्हाईयों को दूर करो।।

मैं अँधेरों से घिरा रहता हूँ ।
प्यार का दीप जलाकर इसे गुलज़ार करो ।।

तेरी जज्बातों से मैं खेला हूँ ।
मेरी गुस्ताखियों को माफ़ करो ।।

लौट आओं हमारी दूनियाँ में ।
मौका देकर मुझ पे एहसान करो।।

जी नहीं सकता हूँ अब तेरे बगैर ।
आकर जीने का इंतजाम करो ।।

यकीं मुझ पे करो, ये असां तो नहीं ।
लौट आओं , मेरे एहसास को जिन्दा कर दो ।। 

2 comments:

  1. वाह ,,,, बहुत खूबशूरत गजल,,,

    नवरात्रि की शुभकामनाएं,,,,
    RECENT POST ...: यादों की ओढ़नी

    ReplyDelete

मेरे पोस्ट के प्रति आपकी राय मेरे लिए अनमोल है, टिप्पणी अवश्य करें!- आपका राकेश कुमार "राही"