मेम्बर बने :-

Monday, September 24, 2012

येन केन प्रकारेण


हमको भइया सबकुछ  चाहिए ,
येन केन प्रकारेण!

गरीब को चाहिए रोटी,
पूरी करनी है ,
जरूरतें छोटी-मोटी ,
इसको भइया सबकुछ  चाहिए ,
येन केन प्रकारेण!

विद्यार्थी को चाहिए नंबर ,
रहन-सहन में आडंबर ,
इसको भइया सबकुछ  चाहिए ,
येन केन प्रकारेण!

पत्नी को चाहिए जेवर ,
पति को दिखा के अपना तेवर,
इसको भइया सबकुछ  चाहिए ,
येन केन प्रकारेण!

बाबू  हो या अधिकारी,
चाहिए महँगी गाड़ी ,
चाहे लेना पड़े रिश्वत भारी ,
इसको भइया सबकुछ  चाहिए ,
येन केन प्रकारेण!

नेता को चाहिए वोट ,
और भ्रष्टाचार से नोट,
इसको भइया सबकुछ  चाहिए ,
येन केन प्रकारेण! 

भुखमरी , बेरोज़गारी , 
रिश्वतखोरी और कालाबजारी ,
सब पे है ये भारी,
चाहे नेता हो या जनता,
गरीब हो या व्यापारी,
बाबू हो या अधिकारी ,
आओ ! इससे मुक्ति पाएँ ,
येन केन प्रकारेण!
राकेश कुमार श्रीवास्तव 

23/09/2012

                                     

4 comments:

  1. कविता बहुत सुन्दर है. हमारे तरफ से भ्रष्टाचार से मुक्ति सभी को मिलनी चाहिए.

    ReplyDelete
  2. बाबु हो या अधिकारी,..........बाबू
    चाहिए महँगी गाड़ी ,
    चाहे लेना पड़े रिश्वत भारी ,
    इसको भईया सबकुछ चाहिए ,.......भैया /भइया /अइ /ऐ /अइ
    येन केन प्रकारेण

    बहुत बढ़िया शब्द चित्र है वास्तु स्थिति का बधाई .

    ReplyDelete
  3. Well Written, Keep It Up!

    ReplyDelete
  4. chahiye hi bari samasya hai
    jo chahe wo ho jaye to fir kya hai
    jo bole so nihaal
    sab ho jaaye maalamaal

    ReplyDelete

मेरे पोस्ट के प्रति आपकी राय मेरे लिए अनमोल है, टिप्पणी अवश्य करें!- आपका राकेश कुमार "राही"