मेम्बर बने :-

Thursday, January 19, 2017

फ़तेहपुर सीकरी एवं सिकंदरा की यात्रा-वृतांत

बुलंद दरवाज़ा के अंदर का पैनोरोमीक व्यू (बड़ा देखने के लिए फोटो पर क्लिक करें। ) 
      




फ़तेहपुर सीकरी एवं सिकंदरा की यात्रा-वृतांत

जुलाई के महीने में दिल्ली और आगरा की यात्रा के नाम से अच्छे-अच्छों को पसीने छूटने लगते है। परन्तु घुम्मकरों को इससे क्या मतलब पसीना छुटे तो छुटे यात्रा का मौका नहीं छूटना चाहिए। तो हुआ यूँ कि मेरी छोटी बहन के ससुराल वालों ने एक कार्यक्रम में दिल्ली बुलाया। मैं  भी छोटी बहन से मिलने का प्रोग्राम बनाने का सोच ही रहा था। लेकिन हम भारतीय "एक पंथ दो काज" में विश्वास रखते है। अतः इसी बहाने मैंने अपने आगरा वाले चाचा जी से मिलने का भी प्रोग्राम बना लिया। तो तय प्रोग्राम के तहत हमलोग 24 जुलाई को रात में मेहरबाग (दयालबाग, आगरा) पहुंचे। मेरे पास समय कम था इसलिए रात के खाने के समय ही चाचा जी ने आदेश सुना दिया कि कल हम सब को फ़तेहपुर सीकरी एवं सिकंदरा की यात्रा के लिए रवाना होना है क्योंकि 26 जुलाई की शाम को ताज़ एक्सप्रेस से हमें दिल्ली भी जाना था। 


सुबह हमलोग नास्ता करने के बाद फ़तेहपुर सीकरी के लिए रवाना हो गए। आगरा शहर से निकलते ही शांत-वातावरण मिलने पर थोड़ी राहत मिली और हमलोगों को लगभग 45 मिनट के बाद फ़तेहपुर सीकरी का प्रवेश द्वार आगरा गेट का दर्शन हुआ। आज भी आगरा गेट अपने मुगलिया अंदाज में बड़े शानों-शौकत के साथ खड़ा है और पर्यटकों का स्वागत शाही अंदाज में करता है। 













(आगरा गेट )

इसके अंदर प्रवेश करते ही मुग़ल साम्राज्य के राजधानी की कहानी को बयां करती खंडहरों से रु--रु होते हुए हमलोग टैक्सी स्टैंड पहुँचे। यहाँ पर लोकल गाईड ने घेर लिया और कहा कि यहाँ से बस भी जाती है, जो की थोड़ी दूर पर है और जब तक बस भर नहीं जाती तब तक इंतज़ार करना पड़ेगा। अतः उसकी सलाह पर ऑटो से बुलंद दरवाजा तक जाने के लिए चले।बुलंद दरवाज़ा  पहुँचने  के लिए जहाँ से चढ़ाई शुरू होती है वहाँ से आगे ऑटो नहीं जाता है। लगभग आधा कि.मी. पैदल चलने पर बुलंद दरवाज़ा का महल दिखा।

बुलंद दरवाजा का साईड व्यू 

कुछ ही कदम पर चलने पर अपने नामकरण के अनुरूप बुलंद दरवाज़ा मेरे सामने खड़ा था।इतिहासकारों के नज़र में बुलंद दरवाज़ा का निर्माण अकबर ने गुजरात पर विजय की स्मृति में बनवाया था। परन्तु मैं जब दक्षिण से बुलंद दरवाज़ा में प्रवेश किया तो सामने सफ़ेद रंग की संगमरमर से बना सुंदर मक़बरा सलीम चिस्ती का दिखा और देखते ही यह विचार आया कि सलीम चिस्ती के प्रति अपार श्रद्धा रखने वाले वाले अकबर ने अवश्य ही उनके शान में यह दरवाज़ा बनवाया होगा। यह वह बुलंद दरवाज़ा है जिसमें प्रवेश कर कोई भी व्यक्ति सलीम चिस्ती के दरगाह से मन्नत मांगता है तो उसकी मांग अवश्य पुरी होती है। जितना भव्य बुलंद दरवाज़ा है उतना ही शांत एवं सौम्य सलीम चिस्ती का दरगाह। यह दरवाज़ा आम लोगों के लिए था। 

बुलंद दरवाज़ा का फ्रंट व्यू 

सलीम चिस्ती का दरगाह 

बादशाही दरवाज़ा पूर्व की दिशा में स्थित है और इस प्रवेश द्वार से घुसते ही सामने जामी मस्जिद दिखता है। अंदर प्रवेश करते ही विशाल प्रांगण हैं जिसके उत्तर में सलीम चिस्ती का दरगाह एवं उनके संबंधियों का मक़बरा है । बुलंद दरवाज़ा महल का वास्तु-शिल्प अदभुत है। यह महल पुरातत्व विभाग के अधीन होने के बाद भी इस महल पर स्थानीय विक्रेताओं का कब्ज़ा है। वक़्फ़ बोर्ड, दरगाह परिसर में धार्मिक गतिविधियों के लिए जिम्मेदार है। यहाँ पर सामान या माल बेचना एवं भीख माँगना मना है लेकिन यहाँ ऐसा कुछ दिखता नहीं है। मज़ार पर चादर चढ़ाने के लिए चादर एवं फुल महल के अंदर ही बिकते है। इसके अलावा श्रृंगार का सामान, टोपी, माला एवं अन्य सामान भी बिकते हैं। प्रवेश शुल्क नहीं होने के कारण पर्यटक से ज्यादा स्थानीय लोगों की संख्या थी जो पर्यटकों से गाइड बनकर या शेरो-शायरी सुनाकर पैसे लेते है। इसके आस-पास का स्थान पर भी स्थानीय लोगों का कब्ज़ा है। बुलंद दरवाजे के आस-पास गन्दगी फैली हुई है। यहाँ आकर आप शांति से इस मुगलिया निशानी को महसूस नहीं कर सकते और ना ही आपको यहाँ सही जानकारी देने वाला कोई गाइड मिलेगा।  

 बादशाही दरवाज़ा 


जामी मस्जिद 

नवाब इस्लाम खान का मक़बरा 

बुलंद दरवाज़ा का पिछला भाग 

बादशाही दरवाजे के बाहर सामने शबिस्तान--इक़बाल (जोधाबाई का महल) और रसोई घर के अलावा अन्य भवन है। यह आकर्षक महल अकबर का मुख्य हरम था, जो गलती से जोधाबाई का महल माना जाता है। इसमें एक चौकोर आँगन के किनारे अनेक कमरे हैं। बीच तथा कोनों में स्थित कमरे दो मंजिल के हैं। पश्चिम में सुसज्जित स्तंभों पर आधारित एक मंदिर भी है। 
जोधा बाई का महल 

जोधाबाई के महल का आँगन 


जोधाबाई का रसोई-घर 


फ़तेहपुर सीकरी अकबर की राजधानी थी। इसके राजकीय क्षेत्र को नौ किलोमीटर लंबी विशाल दीवार जिसमें प्रवेश हेतु नौ गेट है एवं पश्चिम में एक बहुत बड़े प्राकृतिक तालाब से इस शहर को एक सुरक्षित किले का रूप दिया गया था। यह मुगलों द्वारा बनाया गया पहला पूर्व नियोजित शहर है। चंद इमारतों एवं दीवारों को छोड़ सभी इमारतें खंडहर में तब्दील हो गए हैं। पानी की समस्या के कारण अकबर को दूसरी जगह राजधानी बनानी पड़ी। बुलंद दरवाज़ा एशिया का सबसे बड़ा दरवाज़ा है। 

हमलोग शबिस्तान--इक़बाल (जोधाबाई का महल) का दर्शन कर बाहर आए तो पर्यटक विभाग की बस खड़ी मिली। हमलोग उस पर सवार होकर बस स्टैंड आ गए जो की टैक्सी स्टैंड से 250 मी. की दुरी पर ही था। बस स्टैंड के पास ही पर्यटक विभाग का गुलिस्तां नाम का होटल है। वहाँ हम लोगों ने खाना खाया और चल पड़े सिकंदरा के लिए। 


सिकंदरा में अकबर एवं जोधाबाई (मरियम ज़मानी) के दो प्रमुख मक़बरें हैं। यमुना नदी के किनारे अकबर का मकबरा है। इस विशाल मकबरा का निर्माण की शुरुआत अकबर ने की और इस शहर का नाम बहिश्ताबाद रखा। अभी ये मकबरा बनना शुरू ही हुआ था कि 1605 ई. में अकबर की मृत्यु हो गई। इसके बाद जहाँगीर ने इसका निर्माण कराया और उसी दौरान इसके कुछ ही दूरी पर काँच महल का निर्माण कराया। यह महल हरम या स्त्रियों का आवास-गृह था।जिसका उपयोग बादशाह जहाँगीर शिकारगाह के रूप में करता था। अकबर का मकबरा के पास सड़क के दूसरी तरफ जोधाबाई (मरियम ज़मानी) का मक़बरा है जो राजा भारमल की बेटी एवं जहाँगीर की माँ थी। जहाँगीर के जन्म पर जोधाबाई को मरियम ज़मानी (विश्व पर दया रखने वाली) का ख़िताब अकबर ने दिया। इस मकबरे का निर्माण भी जहाँगीर ने करवाया। 
अकबर का मक़बरा का मुख्या द्वार 

अकबर का मक़बरा के अंदरूनी द्वार 

अकबर का मक़बरा के सामने 

काँच महल के पीछे पुरुष-घर 

काँच महल का साईड व्यू 

काँच महल 


मरियम ज़मानी (जोधाबाई) का मक़बरा  
थोड़ा इतिहास से इतर  :

जोधा-अकबर की कहानी तो आप सब जानते है और इसके ऊपर बनी फिल्म एवं सीरियल के विवादों के बारे में सुना होगा। राजपूतों का कहना है कि वस्तुतः जोधा-अकबर की कहानी कुछ इस प्रकार है – जयपुर के राजा की पत्नी जोधपुर की थी और उनकी पर्शियन दासी की एक पुत्री हुई। रानी ने दासी को वचन दिया कि दासी की पुत्री को अपनी पुत्री बनाएगी और उसकी शादी राजघराने में करेंगी और यही मंशा उसने अपने पति आमेर के राजा भारमल को प्रथम मिलन में बतायी तो राजा भारमल ने रानी को वचन दिया कि ऐसा ही होगा। जब हरखू बड़ी हुई तो कोई राजपूत उससे विवाह करने को राजी नहीं हुआ क्योंकि वह राजपूत ना होकर एक दासी-पुत्री थी। जब अकबर अजमेर शरीफ़ जा रहे थे तो भारमल के यहाँ रुके और उनकी चिंता को दूर करते हुए भारमल से कहा कि मैं भी राजपूत नहीं हूँ परन्तु मेरा पालन-पोषण राजपूत परिवार में हुआ और वैसी ही स्थिति आपकी बेटी का भी है तो अगर आपको कोई आपत्ति ना हो तो मैं आपकी बेटी से विवाह करने को तैयार हूँ।  इस प्रकार जोधाबाई एवं अकबर का विवाह हुआ। 
विस्तार से पढने के लिए लिंक को क्लिक करें। 

खैर! 26 जुलाई की सुबह हमलोग  ताज़ महल देखने गए। ताज़  महल के बारे में  लिखने  नहीं जा रहा हूँ  परंतु कुछ तस्वीरें साँझा  करना चाहता हूँ।  तो प्रस्तुत है  तस्वीरें :-

वाह ताज़ कहना तो बनता है। 

  मेरे पुत्र द्वारा ताज़ महल के झरोखे से ली गई तस्वीर।

आगरा की यात्रा गर्मी एवं पसीने  के साथ करनी पड़ी परंतु आगरा ने  निराश नहीं किया २६ जुलाई शाम का  झमाझम बारिश का  नज़ारा लें।  धन्यवाद। 


    - © राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"
Post a Comment