मेम्बर बने :-

Friday, January 12, 2018

"माँ-पिता का साया"










"माँ-पिता का साया"

उनके पास है अनुपम उपहार,
जिनके पास माँ-पिता होते हैं,
इनका साया जिनके सर पर हो.
वे ही चैन की नींद सोते हैं। 

चिंता नहीं होती थी कभी भी,
कभी ना कोई कमी रहती थी,  
जाने कैसे, माँ की हाथों में,   
एक थैली जादू की रहती थी। 

जब भी हम परेशान होते हैं,
माँ को दुखड़ा कह, सो जाते हैं, 
माँ की ममता के आगे ही तो,
सदा सभी बच्चे ही रहते हैं। 

पिता का संबल, बरगद की छाँव,  
उनका  ज्ञान  है, जीवन की नाव,
आज जीवन खुशहाल है अपना,
उनके ही दम से खड़े है पाँव। 

पिता, आदर्श जीवन जीते हैं,
बच्चों के वे नायक होते हैं,  
कितने भी हो वे परेशान, पर,  
सब की इच्छा पूरी करते हैं।   

जीवन भर उनकी सेवा करना,
संतान के सभी धर्म निभाना,
इनका कर्ज, कोई उतार सका,
सदा ही इनके काम तुम आना। 

इनके चरण में स्वर्ग होता है,
देव-समान  हैं, शास्त्र कहता है,
सेवा करें हम माता-पिता की,
नसीब से यह मौका मिलता है। 
  

- © राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"

Post a Comment