मेम्बर बने :-

Friday, March 8, 2019

नारी - हिम्मत कर हुंकार तू भर ले



Top post on IndiBlogger, the biggest community of Indian Bloggers



#नारी - हिम्मत कर हुंकार तू भर ले#

नारी के हालात नहीं बदले,
हालात अभी, जैसे थे पहले,
द्रौपदी अहिल्या या हो सीता,
इन सब की चीत्कार तू सुन ले। 

राम-कृष्ण अब ना आने वाले,
अपनी रक्षा अब खुद तू कर ले,
सतयुग, त्रेता, द्वापर युग बीता,
कलयुग में अपना रूप बदल ले।

लक्ष्य कठिन है, फिर भी तू चुन ले,
मंजिल अपनी अब तू तय कर ले,
अपनी दृढ़ इच्छा शक्ति के साथ,
अपना जीवन तू जी भर जी ले। 

जो भी हैं अबला कहने वाले,
हक़ यूँ नहीं तुम्हें देने वाले,
उनसे क्या आशा रखना जिसने,
मुँह से छीन ली तेरे निवाले। 

बेड़ियाँ हैं अब टूटने वाली,
मुक्ति-मार्ग सभी तेरे हवाले,
लक्ष्मी, इंदरा, कल्पना जैसी,
दम लगा कर हुंकार तू भर ले।

-© राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"




21 comments:

  1. Replies
    1. शुक्रिया आदरणीय सुशील जी .

      Delete
  2. Replies
    1. धन्यवाद विश्वमोहन जी.

      Delete
  3. सुंदर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  4. राम-कृष्ण अब ना आने वाले,
    अपनी रक्षा अब खुद तू कर ले,
    सतयुग, त्रेता, द्वापर युग बीता,
    कलयुग में अपनी रूप बदल ले।
    व्यग्यात्मक रचना
    बधाई आदरणीय
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया रवीन्द्र जी.

      Delete
  5. बहुत ही लाजवाब... प्रेरक रचना...
    वाह!!!

    ReplyDelete
  6. राम-कृष्ण अब ना आने वाले,
    अपनी रक्षा अब खुद तू कर ले,
    सतयुग, त्रेता, द्वापर युग बीता,
    कलयुग में अपना रूप बदल ले।
    बहुत ही प्यारी ओज भरी रचना आदरणीय राकेश जी |
    सचमुच आजकी नारी अपने उसी रूप को पाने की ओर अग्रसर है |सादर , सस्नेह शुभकामनायें |

    ReplyDelete
  7. रेणु जी, आपकी टिप्पणी इस कविता को अपनी मुकाम पर पहुँचाता है. आभार .

    ReplyDelete
  8. राम-कृष्ण अब ना आने वाले,
    अपनी रक्षा अब खुद तू कर ले,
    सतयुग, त्रेता, द्वापर युग बीता,
    कलयुग में अपना रूप बदल ले।

    लाजबाब रचना आदरणीय 👌
    प्रणाम

    ReplyDelete
  9. अद्भुत सर ,ओज से परिपूर्ण रचना ,और सत्य भी ,नारी अपनी दुखो का कारण स्वयं हैं और उसका निवारण भी उसे ही करना होगा ,कोई और हाथ बढ़ायेगा तो वो फिर से लाचारी ही होगी ,सादर नमस्कार

    ReplyDelete
  10. वाहह्हह.. अप्रतिम..बेहद सुंदर सहज ओजपूर्ण अभिव्यक्ति राकेश जी..👌

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर और सारगर्भित रचना ...

    ReplyDelete
  12. Wow such great and effective guide
    Thank you so much for sharing this.
    BhojpuriSong.in

    ReplyDelete

मेरे पोस्ट के प्रति आपकी राय मेरे लिए अनमोल है, टिप्पणी अवश्य करें!- आपका राकेश कुमार "राही"