मेम्बर बने :-

Friday, September 23, 2011

तपिश



 
  (पृष्ठभूमि :- नायक अपनी नायिका को ग्रीष्म ऋतु में याद कर रहा  है और विरह  की  आग  में  जल  रहा   है |  )

तपिश

तपिश दे रहा है , सूरज अभी भी ,
तू आ जाए तो , चैन आ जाए |
तेरी राह पर मेरी नज़रें हैं ,
पर तू न आए , जिया भी न जाए |

कैसे जिए अब , तेरे बगैर मैं ,
चाँद दिखे, तब भी , चैन आ जाए |
शान -ए -फलक पे , तू मुस्कुराए ,
तू आ जाए तो , चैन आ जाए |

जिए जा रहा हूँ , पर तुम न आए ,
चाँद दिखे, तब भी , चैन आ जाए |
सो जाऊ मैं तेरी चांदनी में
तू आ जाए तो , चैन आ जाए |

-राकेश कुमार श्रीवास्तव
(०२/०५/२००७)




  

No comments:

Post a Comment

मेरे पोस्ट के प्रति आपकी राय मेरे लिए अनमोल है, टिप्पणी अवश्य करें!- आपका राकेश कुमार "राही"