मेम्बर बने :-

Sunday, November 11, 2018

मित्र मंडली -95



मित्रों , 
"मित्र मंडली" का  पंचानवे वाँ अंक का पोस्ट प्रस्तुत है।इस पोस्ट में मेरे ब्लॉग के फॉलोवर्स/अनुसरणकर्ताओं के हिंदी पोस्ट की लिंक के साथ उस पोस्ट के प्रति मेरी भावाभिव्यक्ति सलंग्न है। पोस्टों का चयन साप्ताहिक आधार पर किया गया है। इसमें दिनांक 05.11.2018  से 11.11.2018 तक के हिंदी पोस्टों का संकलन है।


पुराने मित्र-मंडली पोस्टों को मैंने मित्र-मंडली पेज पर सहेज दिया है और अब से प्रकाशित मित्र-मंडली का पोस्ट 7 दिन के बाद केवल मित्र-मंडली पेज पर ही दिखेगा, जिसका लिंक नीचे दिया जा रहा है : https://rakeshkirachanay.blogspot.com/p/blog-page_25.html मित्र-मंडली के प्रकाशन का उद्देश्य मेरे मित्रों की रचना को ज्यादा से ज्यादा पाठकों तक पहुँचाना है। आप सभी पाठकगण से निवेदन है कि दिए गए लिंक के पोस्ट को पढ़ कर, टिप्पणी के माध्यम से अपने विचार जरूर लिखें। विश्वास करें ! आपके द्वारा दिए गए विचार लेखकों के लिए अनमोल होगा। 
प्रार्थी 
राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"

मित्र मंडली -95  

इस अंक के आठ रचनाकार 

अभिलाषा चौहान जी 

अनु की दुनिया : भावों का सफ़र

अनु अन्न लागुरी  जी 

श्वेता सिन्हा जी 

"गज़ल के माध्यम से जीवन से जुड़ी कड़वी सच्चाई को व्यक्त करती बेहतरीन शेर।  सुंदर प्रस्तुति।"

लिखा हुआ रंगीन भी होता है रंगहीन भी होता है बस देखने वाली आँखों को पता होता है


सुशील कुमार जोशी  जी 



पूजा की थाली तुलसी का पत्ता हैं माँ.....!!!


ज़नाब जफ़र ऐरोली 

"सभी उम्मीदों की आसरा है माँ, सुंदर जज्बातों से लबरेज़ शेरों से सजी एक बे-मिसाल गज़ल।  आप भी आनंद लें।  सुंदर प्रस्तुति।

भौतिक विकास

रवींद्र सिंह यादव जी 


आशा है कि मेरा प्रयास आपको अच्छा लगेगा । आपका सुझाव अपेक्षित है। अगला अंक 19-11-2018  को प्रकाशित होगा। धन्यवाद ! अंत में ....

Post a Comment