मेम्बर बने :-

Monday, January 1, 2018

मित्र मंडली -50



नव-वर्ष (2018) की हार्दिक शुभकामनाएँ 
मित्रों , 
"मित्र मंडली" का पचासवाँ अंक का पोस्ट प्रस्तुत है।इस पोस्ट में मेरे ब्लॉग के फॉलोवर्स/अनुसरणकर्ताओं के हिंदी पोस्ट की लिंक के साथ उस पोस्ट के प्रति मेरी भावाभिव्यक्ति सलंग्न है। पोस्टों का चयन साप्ताहिक आधार पर किया गया है। इसमें दिनांक 25.12.2017 से 31.12.2017 तक के हिंदी पोस्टों का संकलन है।


पुराने मित्र-मंडली पोस्टों को मैंने मित्र-मंडली पेज पर सहेज दिया है और अब से प्रकाशित मित्र-मंडली का पोस्ट 7 दिन के बाद केवल मित्र-मंडली पेज पर ही दिखेगा, जिसका लिंक नीचे दिया जा रहा है : HTTPS://RAKESHKIRACHANAY.BLOGSPOT.IN/P/BLOG-PAGE_25.HTML मित्र-मंडली के प्रकाशन का उद्देश्य मेरे मित्रों की रचना को ज्यादा से ज्यादा पाठकों तक पहुँचाना है। आप सभी पाठकगण से निवेदन है कि दिए गए लिंक के पोस्ट को पढ़ कर, टिप्पणी के माध्यम से अपने विचार जरूर लिखें। विश्वास करें ! आपके द्वारा दिए गए विचार लेखकों के लिए अनमोल होगा। 
प्रार्थी 
राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"

"दुनियादारी"

मीना भारद्वाज  जी 

"समझदार होना कभी-कभी मानसिक पीड़ा दे जाती है और मन सोचता  है कि हम बच्चों जैसा व्यवहार क्यों नहीं करते जिसमें भाई-चारा एवं शान्ति है।  सुन्दर प्रस्तुति। "  


"अठारहवां  साल व्यस्क होने का सूचक है और इसी सन्दर्भ में अपनी हालात और जिम्मेदारी की जायजा लेती सुन्दर कविता।   सुन्दर प्रस्तुति। "


http://renuskshitij.blogspot.in/2017/12/blog-post.html


"परिवर्तन ही प्रकृति का शाश्वत सत्य है और मोह-माया, विषय वासना और कामना में संघर्षरत अपना यह जीवन।समय तो प्रतिपल बदलता ही रहता है।  सुन्दर प्रस्तुति। 

बचा कर के टांगें निकलना पड़ेगा ...

आशा है कि मेरा प्रयास आपको अच्छा लगेगा ।  आपका सुझाव अपेक्षित है। अगला अंक 08-01-2018  को प्रकाशित होगा। धन्यवाद ! अंत में ....
मेरी दो प्रस्तुति  : 
1. फोटोग्राफी : पक्षी 41 (Photography : Bird 41 )

Post a Comment