मेम्बर बने :-

Thursday, August 31, 2017

फोटोग्राफी : पक्षी 22 (Photography : Bird 22 )

Photography: (dated 25 05 2017 06: 15 AM )

Place : Kapurthala, Punjab, India


Asian koel (Male)

The Asian koel is a member of the cuckoo order of birds, the Cuculiformes. It is found in the Indian SubcontinentChina, and Southeast Asia. It forms a super species with the closely related black-billed and Pacific koels which are sometimes treated as subspecies. The Asian koel is a brood parasite that lays its eggs in the nests of crows and other hosts, who raise its young. They are unusual among the cuckoos in being largely frugivorous as adults.The name koel is echoic in origin with several language variants. The bird is a widely used symbol in Indian poetry. 

Scientific name:  Eudynamys scolopaceus
Photographer :   Rakesh kumar srivastava


एशियाई कोयल पक्षियों के कोयल ऑर्डर के सदस्य हैं, क्यूलीफॉर्मिस।  यह भारतीय उपमहाद्वीप, चीन और दक्षिणपूर्व एशिया में पाया जाता है । एशियाई कोयल एक ब्रूड परजीवी है जो अपने अंडों को कौओं और अन्य पंक्षियों के घोंसलों में रखता है। भारतीय कविता में इस पक्षी का व्यापक रूप से प्रयोग किया जाता है।

वैज्ञानिक नाम: ईयूडीनीमिस स्कॉलोपैसियस
फोटोग्राफर: राकेश कुमार श्रीवास्तव


अन्य भाषा में नाम :
Assamese: কুলি; Bengali: কোয়েল, কোকিল, কুলি; Gujarati: કોયલ, કોકિલા; Hindi: कोयल;
Kannada: ಕೋಗಿಲೆ; Malayalam: നാട്ടുകുയിൽ; Marathi: कोकीळ; Oriya: କୋଇଲି; Punjabi: 
ਏਸ਼ੀਆਈ ਕੋਇਲ; Sanskrit: कोकिल, पिक; Tamil: குயில்; Telugu: కోకిల

Photography: (dated 10 09 2017 011: 15 AM )

Place : Chandigarh, Punjab, India







©  राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"







Thursday, August 24, 2017

फोटोग्राफी : पक्षी 21 (Photography : Bird 21 )

Photography: (dated 29 05 2017 08: 00 AM )

Place : Kapurthala, Punjab, India

House sparrow

The house sparrow is a bird of the sparrow family Passeridae, found in most parts of the world. Females and young birds are coloured pale brown and grey, and males have brighter black, white, and brown markings. 
For the past few decades this bird had become endangered. But it is a matter of happiness that due to the awareness of the people, their population is now seeing an increase, at least in my state, Punjab.


Scientific name:  Passer domesticus
Photographer :   Rakesh kumar srivastava

हाउस स्पैरो, दुनिया के ज्यादातर हिस्सों में पाए जाने वाले गौरैया परिवार पासरीडी के एक पक्षी है। महिलाएं और युवा गौरैया पक्षी रंगीन भूरे और भूरे रंग के होते हैं, और पुरुषों में चमकदार काले, सफेद और भूरे रंग के चिह्न होते हैं। 
पिछले कुछ दशक से यह पक्षी लुप्तप्रायः हो गई थी। परन्तु ख़ुशी की बात है की जनचेतना की वजह से अब इनकी जनसंख्या में वृद्धि देखी जा रही है, काम से काम मेरे राज्य पंजाब में। 
वैज्ञानिक नाम: पास्टर डोमेस्टिक्स
फोटोग्राफर: राकेश कुमार श्रीवास्तव

अन्य भाषा में नाम :-


Assamese: ঘৰচিৰিকা; Bengali: চড়ুই, পাতি চড়ুই; Bhojpuri: गौरइया;  French: Moineau domestique; Gujarati: ઘર ચકલી; Hindi: चिड़िया, घरेलू गौरैया;  Kannada: ಗುಬ್ಬಚ್ಚಿ; Malayalam: അങ്ങാടിക്കുരുവി; Marathi: चिमणा (नर), चिमणी (मादी); Nepali: घर भँगेरा; Oriya: ଘରଚଟିଆ; Punjabi: ਘਰੇਲੂ ਚਿੜੀ; Sanskrit:  चटक, वार्तिका, गृहकुलिङ्ग; Tamil: சிட்டுக் குருவி; Telugu: ఇంటి పిచ్చుక








©  राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"






Thursday, August 17, 2017

फोटोग्राफी : पक्षी 3 (Photography : Bird 3 )

Photography: (dated 30 05 2017 07: 30 AM )

Place : Kapurthala, Punjab, India

Brahminy starling

The Brahmani Manya bird is a member of the Starling family, usually seen in open spaces on the plains of South Asia or in small herds. It is usually seen in pairs or small flocks. Brahmini mayna has a loose black crest on the head. Its beak is yellow with blue base.

Scientific name:  Sturnia pagodarum
Photographer :   Rakesh kumar srivastava

ब्राह्मणी मैना पक्षी, स्टार्लिंग परिवार का सदस्य है यह आम तौर पर दक्षिण एशिया के मैदानों पर खुली जगहों में जोड़े या छोटे झुंडों में दिखते हैं।
ब्राह्मणी मैना के सिर पर काले रंग का  एक ढीली शिखा होती है। इसकी चोंच,  नीला आधार के साथ पीले रंग का होता है।
वैज्ञानिक नाम: स्टर्निया पेगाडोरम
फोटोग्राफर: राकेश कुमार श्रीवास्तव

अन्य भाषा में नाम :-


Bengali: বামুনি কাঠশালিকBhojpuri: पूहईब्राह्मणी मैना, Hindi: कालासिर मैनाचन्ना हुडी, Kannada: ಕರಿತಲೆ ಕಬ್ಬಕ್ಕಿ, Malayalam: കരിന്തലച്ചിക്കാളി, Marathi: ब्राह्मणी मैनाभांगपाडी मैनापोपई मैना, Nepali: जुरे सारौँजुरे रुपी, Punjabi: ਬ੍ਰਾਹਮਣੀ ਮੈਨਾ, Sanskrit: शङ्करा









©  राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"







Friday, August 11, 2017

फोटोग्राफी : पक्षी 20 (Photography : Bird 20 )

Photography: (dated 17 05 2017 06 : 40 AM )

Place : Kapurthala, Punjab, India

Rufous treepie

The rufous treepie is a treepie, native to the Indian Subcontinent and adjoining parts of Southeast Asia. It is a member of the crow family, Corvidae. It is long tailed and has loud musical calls making it very conspicuous. It is found commonly in open scrub, agricultural areas, forests as well as urban gardens. Like other corvids.  it is very adaptable, omnivorous and opportunistic in feeding.

Scientific name:  Dendrocitta vagabunda
Photographer :   Rakesh kumar srivastava

रूफस ट्रीपेई एक वृक्षीय पक्षी है, जो भारतीय उपमहाद्वीप के मूल और दक्षिणपूर्व एशिया के आस-पास के हिस्सों में स्थित है। यह कौवा परिवार का एक सदस्य है, कोर्विदे। इसकी लंबी पूंछ एवं तीव्र संगीतमय आवाज़ विशिष्ट है। यह आमतौर पर खुली झाड़ियों, कृषि क्षेत्रों, जंगलों और शहरी उद्यानों में पाया जाता है। अन्य कोर्विड्स की तरह यह बहुत अनुकूलनीय, सर्व-भक्षी एवं अवसरवादी है।
वैज्ञानिक नाम: डेंड्रोकिता वांबुन्डा
फोटोग्राफर: राकेश कुमार श्रीवास्तव

अन्य भाषा में नाम :-

Assamese: কোকলোঙা; Bengali: খয়েরি হাঁড়িচাচা; Gujarati: ખેરખટ્ટો, ખખેડો; Hindi: महालत; Kannada: ಮಟಪಕ್ಷಿ; Malayalam: ഓലഞ്ഞാലി; Marathi: टकाचोर, भेरा, घिगिरवा;
Nepali: कोकले; Sanskrit: करायिका; Tamil: வால் காக்கை




©  राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"







Thursday, August 3, 2017

एक भारत श्रेष्ठ भारत










एक भारत श्रेष्ठ भारत

हमसब भारतियों ने मिलकर,
एकता का  ऐसा अलख जगाया  है । 
एक भारत श्रेष्ठ भारत का नारा, 
हम ने दिल से अपनाया है ।

मूलमंत्र एकता का इसमें,
हमसब ने जन-जन को  समझाया है।
समझा है राज्यों की विरासत को,
संस्कृति को अपनाया है।

भेद नहीं हम भारतियों में,
भाईचारे का अलख जगाया है। 
सबका साथ, सबका विकास के मर्म,
को हमसब ने अपनाया है।

नहीं लड़ेंगे, साथ रहेंगे,
आपसी मत-भेदों को मिटाया है।
सांस्कृतिक कार्यक्रम के द्वारा,
एक-दूजे  को अपनाया है। 

समझ गए हम सभी भारतीय,
बनाना ही है भारत को विश्व गुरु, 
इसलिए, भारत-विकास के पहिये को,
अपनी शक्ति से चलाया है। 

©  राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"