मेम्बर बने :-

Wednesday, May 27, 2015

नई पीढ़ी








       नई पीढ़ी


रुको! सुन लो मेरी बात,
मैं जानता हूँ कि तुम नहीं मानोगे,
सुन लोगे मेरी बात बुजुर्ग मानकर,
लेकिन करोगे अपनी मन-मर्जी,
और पछताओगे समय निकल जाने पर,
जैसे, आज मैं सोचता हूँ,
क्यों नहीं मैंने मानी,
अपने बुजुर्गों की बात!

मैं मानता हूँ पीढ़ी के फासले को,
और मानता हूँ हमदोनों के सोचने के अंतर को,
पर शाश्वत सत्य कभी बदलते हैं भला,
जीवन शैली हमदोनों की जुदा हो सकती है,
मगर सफलता के सूत्र भी कभी बदलते हैं भला,
और छल-कपट से कभी सफल हो भी जाओ,
तो क्या तुम कभी बदल पाओगे,
समाज के घिनौने चेहरों को,

ऐसा नहीं है कि मैंने सफलता प्राप्त नहीं की,
और ऐसा भी नहीं है कि तुम्हें सफलता नहीं मिलेगी,
फर्क है तो बस मापदंड का,
जी रहा होता और खुशहाल ज़िन्दगी,
अगर मैंने मानी होती,
अपने बुजुर्गों की बात!

इसलिए सुन लो मेरी बात,
युवा हो तुम ! है तुम में अनंत ऊर्जा,
हो जाओ तुम उश्रृंखल,
केवल मौज-मस्ती के लिए,
पर ध्यान रहे!
उससे अहित न हो दूसरों का,
शेष ऊर्जा को खर्च करो दिल खोल कर,
जो काम आए अपने और समाज के नव-निर्माण में,
मैं नहीं कहता कि तुम सभी भटके हुए हो,
मेरी सलाह उनके लिए जो युवा है आम,
रुको! सुन लो मेरी बात.
जिनसे मैं भी सीखता हूँ,
ऐसे युवाओं को पहुंचाना मेरा भी सलाम!

- © राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"








Tuesday, May 19, 2015

Simran Simmi Bhajan - 01



मेरी बड़ी दीदी द्वारा रचित एवं स्वरबद्ध किया और और छोटी बहन द्वारा गाया ये भजन संग्रह पसंद आये या इसे खरीदना चाहे तो सूचित अवश्य करें.- आपका राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"

Wednesday, May 13, 2015

विरह वेदना











      विरह वेदना



ज़िन्दगी में ये कैसा मोड़ आया,
जो सबसे प्यारा था उसे छोड़ आया.

वो प्यारा था, ये तब मैंने जाना,
जब उसे उस मोड़ पर छोड़ आया.

आँखों में समुन्दर, सीने में बवंडर,
रख सीने पर पत्थर, उसे छोड़ आया.

न मैंने कुछ कहा, न कुछ उसने कहा,
मीठी यादों के सहारे, उसे छोड़ आया.

जीवन कब रुका है जो अब रुकेगा,
मगर अपना सब कुछ वहीँ छोड़ आया.

न मिलेंगे कभी, ऐसा है तो नहीं,
फिर भी गम है कि उसे छोड़ आया.

करेगा नाम रौशन मेरा, इसी आस पर,
कामयाबी की राह पर “राही”, उसे छोड़ आया.

- © राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"