मेम्बर बने :-

Thursday, October 30, 2014

दूरियाँ

              

    

          








    

               दूरियाँ

फासले हमने जो बनाएआओ इसे दूर करें

दूरियाँ कम होइसके लिएकोई जतन तो करें। 


दो क़दम तुम जो बढ़ो दौड़ करहम गले से लगें

फासले हमने जो बनाएआओ इसे दूर करें।


तेरे स्वाभिमान कोचोटपहुँचाया था कभी

कभी मिलो तोइस बात काइकरार करें।


झूठे अहंकार में आकरतुझे सताया था कभी

पुरानी भूलों काएहसास अबबेचैन करे


सभी गुनाहों का हिसाब न दे पाउँगा मैं

मेरा ज़मीर ही, मुझको हर घड़ी शर्मसार करे.


तुम मुझे किसी दिन माफ करोगी, ऐसा लगता तो नहीं

मेरा दिल फिर भी, उस दिन का इंतज़ार करे। 


आज मिल गई हो, बहुत फासले हैं मगर

मैं गुनाहगार हूँ तेरा, तुम मुझे अब माफ करो। 



जब तुम ने कर लिया क़ुबूल, अपने गुनाहों को

फिर हम दोनों क्यों, वक्त यूँ बरबाद करें। 


पुराने ज़ख्मों को न कुरेदो "राही"

आओ नए सिरे से, ज़िंदगी की शुरुआत करें।


© राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"

Post a Comment