मेम्बर बने :-

Tuesday, March 27, 2012

प्रेम गीत


(पृष्ठभूमि :- लड़का एवं लड़की के  परिवारों के बीच मधुर संबंधो के कारण  वे  एक दुसरे प्रति अपना 
                      प्यार या भावनाएं  प्रगट नहीं कर पाते और अलग अलग जीवन  जीने को मजबूर होते हैं )





प्रेम    गीत   

काश  हम  अजनबी  तेरे  लिए  होते  
इजहारे  मोहब्बत , सरेआम  किये  होते
काश  तुम ......
जब  से  ये  जाना  मोहब्बत  का  नाम 
मोहब्बत  को  दे  दिया  तेरा  ही  नाम 
मोहब्बत  का पैगाम , कब  का  पेश  कर  दिए  होते
काश  तुम  ......
मेरे  होठ  सिले  के  सिले  रह  गए
इजहारे  मोहब्बत , न  हम  कर  सके
मोहब्बत  है  तुझसे , हम  तुमको  बता  देते
काश  तुम ......
तेरा  नाम  लेके  मै  जीती  रही
तेरा  नाम  लेके  मै  मरती  रही
तुम  करते  हो  प्यार  मुझसे
काश  पहले  ही  बता  देते
काश  हमदोनो  एक  दुसरे  को  बता  देते
काश  हम  अजनबी  तेरे  लिए  होते  
इजहारे  मोहब्बत , सरेआम  किये  होते

-राकेश कुमार श्रीवास्तव