मेम्बर बने :-

Monday, November 19, 2012

भारत माँ

                             भारत   माँ  




तू  तो मेरी प्यारी माँ ,
तेरी शान निराली माँ  ।
तेरे आँचल में हरियाली ,
सर पे ताज हिमालय माँ  ।।
                                                              करोड़ो बहती सरिता तुझ में,
                                                               बनकर रुधिर वाहिका तन में ।
                                                              अगल-बगल सागर लहराती,
                                                              पाँव हिंद महासागर पखारती ।।
तुझ में सृष्टि की सारी रचना,
नदी झील सागर और झरना ।
मरुस्थल पर्वतों का क्या कहना,
लगता है जैसे हो सपना ।।
                                                             खनिज संपदा वनस्पति अपार है,
                                                            जलीय-जीव पशु-पक्षी नाना-प्रकार है ।
                                                            तेरे कारण यहाँ जीवन आसान है,
                                                           कैसे न कहूँ माँ तू  महान है ।।
ऋतु मौसम ऐसे सजा है,
सभी दिशाओं में विभिन्न फिज़ा है ।
ऐसा नज़ारा और कहाँ है,
सारे विश्व का रूप यहाँ है  ।।
                                                         लूटने आया जो भी  तुझको,
                                                         ऐसे रिझाया तुमने उसको  ।
                                                        वो तेरा गुलाम हो गया,
                                                        कदमों  में तेरी दो जहाँ पा गया  ।।
अनेक रंग जाति और भाषा ,
सभी भारतीयों  की एक ही आशा ।
हमारा भारत बने महान,
इसके लिए हम दे दें जान ।।
                                                      तेरी सेवा किए ज्ञानी-विज्ञानी,
                                                     कण-कण में संतों की वाणी ।
                                                     कभी तेरे काम आ जाऊ माँ ,
                                                    हँसते हुए  शीश चढ़ाऊ माँ ।।

राकेश कुमार श्रीवास्तव 



Post a Comment